मस्त हरियाणा और हरियाणा आले

मास्टर- तेरा जनम कड़े होया था?
बालक-जी कुरुक्षेत्र में।।
मास्टर-इसकी Spelling बता।
बालक(थोड़ी देर सोचे पाछे)- मास्टर जी ऊँ लिकड़गी मुँह में ते, Jind में होया था जी मैं तो।।


शादी के बाद नई बहु से ——–
सास–चल बेटी टाइम हो गया है गोबर गेरन चाल।
बहु- मम्मी मै M.sc पास हूँ
मै गोबर नही पाथूंगी ।
सास– वो सामने बिटोडा देख रही है न वो p.hd आली का है ।।।।?????????????


भीड़ घणी थी
कनेक्टर -” ताऊ खिड़की म कयू खड्या है
भीतर नै चाल ”
ताऊ -” भीतर के दरी बिछा राखी है
????


नौकरी के लिए इंटरव्यू चल रहा था….

बहुत लम्बी लाइन लगी हुई थी…

गेट पर लिख रखा था अंदर आने के लिए जो सबसे कम शब्द बोलेगा उसे नौकरी दी जाएगी…

अब कोई कहे:- “मै आई कम इन सर!”

कोई:- “क्या में अन्दर आ सकती हूँ।”

कोई कुछ कोई कुछ ..

तभी एक हरियाणवी का नंबर आया..

उसने कमरे के गेट में गर्दन भीतर डाली और बोल्या :
“बडूँ….?
.
.
सर: “बङज्या…!! ????????


टीचर: “बहुत तेज़ हवाओं के

साथ बारिश हो रही है|”

इसका भविष्य काल बताओ…

हरियाणवी: “इब लाइट जावेगी!”


ताऊ :– कुत्ता आया है जाके एक रोटी लिया

ताई :– रोटी तो कोणी

ताऊ :– तो लठ ए लिया पर खाल्ली नी जाण देना सुसरे ते।।


‘जितना तू महीने में कमाती है उतना तो मेरी गाडी एक हफ्ते में तेल खाती है’
.
इसे इसे गपोडिये माणस होवें जो ढलान आंदे सार तेल बचान खात्तर मोटरसाइकिल का इंजन बंद कर दिया करें।।
 


आज पडोसन न्यू बोली म्हारे बाईक है
स्वीफट गाडी है, थारे के है?
मन्ने भी बता दिया मखा म्हारे
दो भैस है अर




-;
# Swift आले तड़के डोली ठा
के लास्सी मांगन आया करे….!! ? ?


एक बै दो तेज से बूढ़े हरयाणा रोडवेज की बस में बैठ लिये । कंडक्टर आया एक धोरै, अर बोल्या – “हां ताऊ, टिकट?”

बूढ़ा पईसे बचावण के चक्कर में था, बोल्या – “ओ मेरे यार कंडक्टर, न्यूँ सोच लिये अक गाम की छोरी बैठ-गी थी” । कंडक्टर भी शरीफ था, मान-ग्या बेचारा ।
फिर कंडक्टर नै दूसरा ताऊ टोक लिया – “ताऊ, टिकट” ।

दूसरा ताऊ पहले वाले का भी उस्ताद लिकड़ा, बोल्या – “ओ मेरे यार कंडक्टर, छोडै ना, न्यूँ सोच लिये अक छोरी गैल बटेऊ भी था” !!


डाक्टर: ताई तनै इसी दवाई दूंगा के तूं फेर तै जवान हो जागी

ताई बोली:
ईसा जूलम मन्ना करीये ढेड के बीज,
मेरी पेनशन बन्द करावैगा क


एक बै एक छोरा खेत म्ह रेडियो सुणे था। रेडियो पै एक लुगाई बताण लाग री थी, बंबई मै बाढ़ आ गी, गुजरात मै हालण आग्या, दिल्ली म्ह… । छोरे नै देख्या पाच्छै नाका टूट्या पड़्या सै, अर पाणी दूसरे के खेत म्ह जाण लाग रहया सै। छोरे छोंह म्ह आकै रेड़ियो कै दो लट्ठ मारकै बोल्या, दूर-दूर की बताण लाग री सै, लवै नाका टूट्या पड़या सै, यो बतांदे होए तेरा मुँह दुक्खै सै।


बाबू – पढ़ ले बेटा…..पेपर है तेरा
.
छोरा- मन्नै सारा-सौदा आवै है…….
.
बाबू – आच्छा…तो न्यू बता…..एक 2:5 mm मोटा तार है और
वो एक 240 Volt की बैटरी त जोड़ राख्या है….तो जब
93 Millisecond त उसमै करंट छोड्या जा
तो उस करंट की
स्पीड कितणी होगी?
.
छोरा – कसूती
???


 

Author

achoudhary15@gmail.com
अखिल चौधरी म्हारा हरियाणा पोर्टल के प्रमुख लेखक है। वे हरयाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले हैं। उनका उद्देश्य इस पोर्टल द्वारा हरयाणा की समय समायिक जानकारी के अलावा हरियाणा की भाषा, संस्कृति अवं लोक व्यव्हार को इंटरनेट के जरिये विश्व पटल पर लाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *