हरयाणवी चुटकुले: ताऊ और मोड़डा

 


ताऊ आपणे डांगरा ने ले के खेत में ते आन लाग रह्या था अर
इतने में एक मोड़डा आ गया अर उस न देख के सारे डांगर बिदक
( ड़र ) गे ,ताऊ बोल्या ओ मोड़डे एक ओड ने हो ले मेरे डांगर
डरे हैं तेरे ते ?

मोड़डा बोल्या -अरे बच्चा तुम्हे बोलने की अक्ल नही है ,हमे
स्वामीजी कह कर बुलाते हैं ,

ताऊ के छो उठ गया अर बोल्या – एक ओड ने हो ले ,एक लठ
लाग गया तो मोड़डे ते भी जावेगा !

—मखौलिये जाट कह दे सच्ची बात