हरयाणवी ताऊ का बृह्मज्ञान

 


1 . जो शरीर नै तंग करै वो खाणा ठीक नही
वेवक्त घरां गैर के जाणा ठीक नही!

2 . जार की यारी वेश्या का ठिकाणा ठीक नही !
ख़ुशी के टेम पै मातम का गाणा ठीक नही !!

3. बीर नै ज्यादा मुंह के लाणा ठीक नही !
बेटी हो घर की शोभा घणा घुमाणा ठीक नही !!

4 पास के धन तै काम चालज्या तैकर्जा ठाना ठीक नही !
भाईचारे तै रहना चाहिए गाम मैंपाला ठीक नही !!

5 . सुसराड जमाई . बेटी कै बाप और गाममैंसाला ठीक नही !
पछैत मैं बारना घर बीच मैं नाला ठीकनही!!

6 . ऐश करण नै माल बिराना ठीक नही अर तिलहो धोले रंग का
दाल मैं क़ाला ठीक नही !