हरियाणवी मुहावरे और हरयाणवी चुटकुले

 


एक हरियाणवी छोरा अपनी गर्लफ्रेंड ने 5 स्टार होटल मे रोटी खवान लेग्या,,,,,
छोरा वेटर ने बला के बोल्या : Sir, With due respect, I beg to say that I am ill so I can not come to school. Kindly grant me Tea for 2 plz.
वेटर के कुछ खास समझ नी आया पर फेर बी ओ 2 ग्लास चा ले आया
गर्लफ्रेंड: आए हाए तेरी अंग्रेजी,,
छोरा बोल्या:- बस ईतने मे ए मेरी फेन होगी, जे तनै मेरा पानी वास्ते “Thirsty Crow” अर रोटियां खातर “Greedy Dog” सून लिया नी तू तो जमा ऐ बावली हो जै गी!


रम्लू सकूल की घंटी धोरे खड्या हो के घणा सोच में
बड़र्या था | उड़े के रामफल मास्टर जा था|
.
.
रामफल मास्टर —- रे तू किः सोच में पड़
गया रमलू ?
.
रमलू —–जी, मास्टर जी में न्यू सोचूं था अक
या घंटी बाजे क्यूकर स |
रामफल मास्टर —- (बजा के देखावे स )न्यू बाज्या करे |
.
.
( अर सकूल के बालक भाज लिए कलासाँ मां तें लिकड़ के )
.
.
रमलू —-मासटर जी इब्ब भाज ल्यो ना ते हेडमास्टर
इब्ब तन्ने बजावेगा


एक पहलवान, जो 6 feet लम्बा और तगड़ा था,
bus में जा रहा था . . .
Conductor – भाईसाहब Ticket
पहलवान – हम Ticket कोणी लिया करदे
Conductor घबरा गया, पर कुछ कर न सका,
पर वो ये बात दिल पे ले गया और Gym join कर लिया . . .
Daily वो पहलवान से पूछता और पहलवान बोलता हम ticket कोणी लिया करदे
ऐसे 6 महीने निकल गये . . .
अब conductor भी पहलवान की तरह तगड़ा हो लिया . .
अगले दिन conductor – भाई ticket लेले
पहलवान – हम ticket कोणी लेंदे
Conductor – छाती दिखाते हुए “क्यूँ नी लेंदा बे ?”
पहलवान – पास बनवा रखा है, इसलिए ना लेता।।


हरियाणवी मुहावरे।
1 हाळी का पेट सुहाळी खा-कै ना भरै
2 हारे ओड़ कै दो लठ फालतू लाग्या करैं
3 साची कहना सुखी रहना, झूठ बोले खीचा खीचा फिरे
4 मूंगफली ऊपर पानी पी ल्यो, खांसी हो ज्यागी – काणे गैल्यां ब्याह कर ल्यो, हांसी हो ज्यागी
5 मां तै तरसै चौथी-चौथी नै, बेटी बिटौड़े के बिटौड़े बक्शै
6 भादवे का घाम अर साझे का काम देहि तोडा करे
7 भीत में आला अर, घर में साला ठीक ना होते
8 नहर तले का अर्र सहर तले का मानस खतरनाक हो सै
9 दुध आली की तो लात भी उट जाया करे
10 जूती तंग अर रिश्तेदार नंग – सारी जगहां सेधैं
11 चालना राही का, चाहे फेर क्यूं ना हो । बैठना भाइयाँ का, चाहे बैर क्यूं ना हो ।।
12 चोर नै फंसावै खांसी और छोरी नै फंसावै हांसी
13 गंजी की मौत आवै जब वा कांकरां में कुल्लाबात्ती खाया करै


अगर चीन को हरियाणा की सीमा लगती तो
हमारे हरियाणे की लेडीज ही “बिटोङे” बना बना
कर आधे चीन पर कब्जा कर लेती और चीन का कब्जे
से
भरोसा ही उठ जाता।।  


एक बै एक घणा माड़ा छोरा था. उसनै देखणिया आ गे.
देखे पाछै उसका बाब्बू छोरी आले तै बोल्या
-चौधरी साहब देख लिया छोरा !! ?
छोरी आला बोल्या
— जी हामनै तै देख लिया, एक बै आप डॉक्टर तै और दिखा लियो ~~


एक गाम मैं बाढ़ आ गी. सारा गाम
डूब ग्या.
एक बूढा अपणा होक्का भर कै ऊंचे से
टील्ले पै जा बैठ्या.
बूढ़े नै देख्या सारा गाम अपणे-अपणे
सामान खात्तर दुखी होर्या.
कोए गठड़ीयाँ का बोझ मरण लाग
र्या अर किसे नै अपणे
डांगराँ की चिंता हो री.
अर कोए बग्गी मैं अलमारी-संदूक
लादे पाणी माः कै जाण लाग रया.
यो नजारा देख कै……
बूढा एक तसल्ली की सीली सांस भर
कै बोल्या.
” मेरा सुसरा, यो टोट्टा बी आज
सही काम आया


रामफल ने शौंक-शौंक में व्रत राख लिया !

वो अपने छोरे तै बोल्या :- देखिये रै सूरज डूब गया के

छोरा :– ना बाबू ईबे तो लिकड़ रहा सै
थोड़ी वार पाछे फेर बोल्या :- देख डूबा के नही

छोरा :- कोन्या डूबा बाबू !

रामफल :- लागे है मने गेल लेके ऐ डूबेगा झकोई !!  

Author

achoudhary15@gmail.com
अखिल चौधरी म्हारा हरियाणा पोर्टल के प्रमुख लेखक है। वे हरयाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले हैं। उनका उद्देश्य इस पोर्टल द्वारा हरयाणा की समय समायिक जानकारी के अलावा हरियाणा की भाषा, संस्कृति अवं लोक व्यव्हार को इंटरनेट के जरिये विश्व पटल पर लाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *