हरियाणवी कविता: यो भारत खो दिया फर्क नै इसमैं कोए कोए माणस बाकी सै / लखमीचंद

 

यो भारत खो दिया फर्क नै इसमैं कोए कोए माणस बाकी सै

घणे मित्र तै दगा कुमाल्यें, चीज ल्हुकमां प्यारे की ठाल्यें
बेटी बेच-बेच धन खाल्यें, मुश्किल रीत बरतणी न्या की सै

नहीं कुकर्म करणे तै डरते, दिन-रात नीत बदी पै धरते
शर्म ना बुआ बाहण की करते, या मेरी ताई दादी काकी सै

बन्दे जो अकलबन्द होंगे चातर, नहीं मारैंगे ईंट कै पात्थर
सोच ले मनुष दळण की खातर, सिर पै काल बली की चाकी सै

गुरू मानसिंह शुद्ध छन्द छाप तै, ‘लखमीचन्द’ रहो जिगर साफ तै
कळु का कुण्डा भरैगा पाप ते, ब्यास नै महाभारत मैं लिख राखी सै


रागनी एक कौरवी लोकगीत विधा है जो आज स्वतंत्र लोकगीत विधा के रूप में स्थापित हो चुकी है। हरियाणा में मनोरंजन के लिए गाए जाने वाले गीतों में रागनी प्रमुख है। यहां रागनी एक स्वतंत्र व लोकप्रिय लोकगीत विधा के रूप में प्रसिद्ध है। हरियाणा में रागनी की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं व सामान्य मनोरंजन हेतु रागनियां अहम् हैं। सांग (लोकनाट्य विधा) का आधार रागनियों ही थी। सांग धीरे-धीर विलुप्त हो गए तत्पश्चात रागनी एक स्वतंत्र एवं लोकप्रिय लोकगीत विधा के रूप में स्थापित हुई।

इस पृष्ठ पर हरियाणा के प्रसिद्ध रचनकारों की रागनियाँ उपलब्ध करवाई गई हैं।

हरियाणवी रागनियाँ

यदि आप कोई सुझाव या  संभंधित जानकारी साँझा करना चाहते हैं तो हमे mhaaraharyana@gmail.com पर ईमेल करें .