हरियाणवी कविता: पोह का म्हिना रात अन्धेरी, पड़ै जोर का पाळा / रणवीर सिंह दहिया

  पोह का म्हिना रात अन्धेरी, पड़ै जोर का पाळा सारी दुनिया सुख तैं सोवै मेरी ज्यान का गाळा सारे दिन खेतां के म्हां मनै ईख की करी छुलाई बांध मंडासा सिर पै पूळी, हांगा लाकै ठाई पूळी भारया जाथर थोड़ा चणक […]

Tagged , , , ,
Read More

हरियाणवी कविता संग्रह: किस्सा फौजी मेहर सिंह / रणवीर सिंह दहिया

  जिला रोहतक के गांव बरोणा में 11 मार्च 1950 को जन्म। 1971 में एम. बी.बी.एस तथा 1977 में एम.एस की। सामाजिक बदलाव के कार्यों में नेतृव्य। हरियाणवी में कहानी एवं उपन्यास लेखन। समसामयिक विषयों और जन-नायकों पर सैंकड़ो रागनियां व किस्सों […]

Tagged , , , ,

जीवन परिचय; रणवीर सिंह दहिया और उनका हरयाणवी कविता संग्रह

  जिला रोहतक के गांव बरोणा में 11 मार्च 1950 को जन्म। 1971 में एम. बी.बी.एस तथा 1977 में एम.एस की। सामाजिक बदलाव के कार्यों में नेतृव्य। हरियाणवी में कहानी एवं उपन्यास लेखन। समसामयिक विषयों और जन-नायकों पर सैंकड़ो रागनियां व किस्सों […]

Tagged , , , ,